Dr. B. R. Ambedkar

Big Data - Big Insights Difficult words, pictures and others

New , 2023 (facebook Post (landscape))

Dr. Babasaheb Ambedkar worked round the clock to eradicate untouchability and caste discrimination.  We respect this great man even today.  Let’s see information about Babasaheb Ambedkar.

Contents hide
1 birth
2 Childhood
3 Education
4 life
5 Work of Ambedkar
born
Dr. Babasaheb Ambedkar was born on April 14, 1891 in the village of Mahu in the Indore district of Madhya Pradesh. His father’s name was Ramji and mother’s name was Bhimabai. Ramji and Bhimabai had 14 children by 1891. Among them, four daughters namely Ganga, Rama, Manjula and Tulsa survived and three sons namely Baliram, Anandrao and Bhimrao survived. Bhimrao was the youngest fourteenth child. Ambedkar’s grandfather’s name was Maloji Sapkal. Maloji was recruited as a soldier in the army of the English Crown. Due to his job in the army, Malojirao started studying at a military school. He was initiated into the Ramananda sect. Therefore, pure thought and pure behavior played an important role in Maloji’s household affairs.

Malojina had four children three sons and one daughter. After two sons, a daughter Mirabai was born. Born around 1848, Ramji was the fourth child of Malojirao. Ramji was religious. He had recited Abhangs of Saint Kabir’s couplets, Dnyaneshwar, Namdev, Chokhoba, Eknath, Tukaram etc. He used to read Dnyaneshwari everyday. While he was a soldier in the Hemant army at Stotre and Bhopal in the morning, he began his English education at a military school and mastered the English language well. So he passed the normal school examination. After passing the matriculation examination, his job as a constable was lost. He was promoted to the post of teacher in a military school i.e. a normal school.

Childhood
Ramji was in the platoon. That platoon arrived in 1888 at the army base at Mohol in Madhya Pradesh. Subhedar Ramji got the post of Principal of Normal School there. During this time, Dr. Ambedkar was born. His childhood name was Bhiwa. His popular names are Bhima, Bhima and Bhimrao. Ambedkar’s family belonged to the then untouchable Mahar caste and hailed from Ambadve village in Mandangad taluka of Ratnagiri district in Maharashtra.

Being untouchables, they were always subjected to socio-economic discrimination.
In 1894, Subedar Ramji Sapkal retired from his job as a headmaster in the British Army and settled with his family at Camp Dapoli Vasti, a village near his native village of Dapoli in Ratnagiri district of Maharashtra. Bhimrao was not admitted to school due to his young age. Later in the month of November 1896, Bhimrao’s name was enrolled in the Camp School in Satara, a Marathi school. This year he took initiation into Kabir Panth. A few days later, Bhima’s mother passed away. Ambedkar was five years old at that time. After that Bhima and other children were brought up by their mother Mirabai in difficult conditions.

Education
Dr. When Babasaheb Ambedkar came to Bombay in 1904, he started going to Elphinstone, a government school. He was the first untouchable student to attend Elphiston High School. Ramji, who was a follower of Kabir, introduced the children to Hindu literature. Due to opposition from other castes, Ramji used his army post to send children to government schools. After class 10th, he completed BA degree in Political Science and Economics from Mumbai University. Also joined the Baroda Institute for employment. Ambedkar was the first Indian to receive a Doctorate or Ph.D degree in Economics from abroad. He was also the first South Asian to receive a doctorate degree twice from South Asia. Ambedkar was the most brilliant and highly educated person in his family. He received his higher education in 27 years from November 1896 to November 1923 from Bombay University, Columbia University and London School of Economics and China.

life
Ambedkar was an economist professor and lawyer in his early career after which he worked in the socio-political field. Joined the propaganda media and discussion media for India’s independence and published a newspaper. He advocated political rights and social freedom for Dalits and made a valuable contribution to the creation of modern India. While Bhimrao was still at school in 1906 at the age of fourteen and fifteen, Bhimrao was married to Ramibai alias Ramabai, the 9-10 year old daughter of Bhiku Valangkar of Dapoli. While studying at Elphiston High School, Bhimrao had to sit away from the upper caste boy in the class. Many high school teachers treated him with disdain. Ambedkar used to study for eighteen hours every day during his student life.

Ambedkar’s work

He has contributed a lot in drafting the Constitution of India. He connected farming business with social system for agriculture and farmers. He found the reason for the caste-based social system in the rural areas in the rural economy. Therefore, if we want to change the social system based on caste, we have to change the agriculture. Considering agriculture as an industry, the economic development of farmers should be done by providing infrastructure. He believed that if the farmer becomes economically mature, the agricultural labor and all the elements associated with agriculture will benefit from the economic act essay tips and economic disparity complements and nourishes the caste system, so the less the economic disparity, the less the chasm of caste discrimination will diminish.

Water and land are the main factors for agriculture. It is impossible to develop agriculture without water. Farmers need clean water. It is not possible to increase the productivity of water and raise the economic level of farmers. He brought the instructions of the British government. He led the first strike for farmers under the leadership of Ambedkar. This strike took place between 1928 and 1934 in the village of Zari. This strike continued for seven years. Babasaheb Ambedkar fought to destroy Khoti system.

Babasaheb has done political work. In December 1926, the Governor of Bombay, Henry Staveley Lawrence, appointed him as a member of the Bombay Legislative Council. There he often gave speeches on economic topics. Member of Bombay Legislative Council till 1936. Although the untouchables had no political rights, they were invited to represent the untouchables at the first Round Table Conference held in London in 1930.

Ambedkar took an active part in India’s freedom struggle After the Muslim League’s Lahore Resolution in 1940, which demanded Pakistan, Ambedkar wrote a 420-page book titled ‘Thoughts on Pakistan’ in which he analyzed the concept of Pakistan. He has also criticized the Muslim League’s demand for a separate Pakistan for Muslims and argued that Hindus should accept a Muslim Pakistan.

Babasaheb Ambedkar was a jurist, economist and social reformer. He campaigned for the rights of Dalits and made significant contributions in the fight against social discrimination and the rights of hardworking farmers and women. He has a lion’s share in the making of Indian constitution. He served as the country’s first law minister.

Bhimrao Ambedkar framed the Constitution of India
Dr. Bhimrao Ambedkar’s main objective of drafting the constitution was to eliminate caste discrimination and untouchability in the country and to create a society free from untouchability and to revolutionize the society and give equal rights to all.

Bhimrao Ambedkar was appointed as the Chairman of the Constitution Drafting Committee on 29 August 1947. Ambedkar ji insisted on building a real bridge between all sections of society. According to Bhimrao Ambedkar – BR Ambedkar, if the differences between different sections of the country are not reduced, it is difficult to maintain the unity of the country, besides he emphasized on religious, gender and caste equality.

Bhimrao Ambedkar Saheb was successful in securing the support of the Legislative Assembly for reservation for members of Scheduled Castes and Scheduled Tribes in education, government jobs and civil services.

The Constitution of India gives all citizens of India the right to freedom of religion.
Rooted out untouchability.
Empower women.
The gap between the elements of the society was removed.
Let us say that Bhimrao Ambedkar – B.R. Ambedkar ji on 26 November 1949 worked hard for about 2 years, 11 months and 7 days to frame the Constitution of India based on Equality, Equality, Fraternity and Humanity and the then President Dr. Rajendra Prasad. Indian culture was overwhelmed by the way all the citizens of the country lived with national unity, integrity and dignity of the individual.

Apart from his role in the framing of the Constitution, he also helped set up the Finance Commission of India. I tell you that through his policies he made progress by changing the economic and social condition of the country. Along with this, he emphasized on stable economy as well as free economy.

He was constantly striving to improve the condition of women too. In 1951, Bhimrao Ambedkar tried to pass the Hindu Women’s Empowerment Code, and when it failed to pass, he resigned as the first law minister of independent India.

After this Bhimrao Ambedkar – BR Ambedkar ji also contested for Lok Sabha seat but he lost in this election. He was later appointed to the Rajya Sabha and remained a member until his death.

In 1955 he published his treatise on Linguistic States and proposed the reorganization of Andhra Pradesh, Madhya Pradesh, Bihar, Uttar Pradesh and Maharashtra into small and administrative states, which became true in some states 45 years later.

Dr. Bhimrao Ambedkar – B R Ambedkar G Election Commission, Planning Commission, Finance Commission, Uniform Civil Hindu Code Women, State Reorganization, Consolidation of Large States into Smaller States, Guiding Principles of State Policy, Fundamental Rights, Human Rights, Comptroller and Auditor General, Election Commissioner and formulated strong social, economic, educational and foreign policies that strengthened the political structure.

Not only this, Dr.Bhimrao Ambedkar – B R Ambedkar made constant efforts in his life and through his hard struggle and efforts he strengthened democracy and separated the three organs of the state, judiciary, executive and legislature as well as equal civil rights. . Corresponding to the element of a person, an opinion and a value.

Apart from this, Bhimrao Ambedkar ji, a brilliant genius, ensured through the Constitution the participation of Scheduled Castes and Tribes in the Legislature, Executive and Judiciary as well as participation in any kind of assemblies like Gram Panchayat, Zilla Panchayat, Panchayat in future. Paved the way for Raj etc.

Along with cooperative and collective farming, nationalization of available land, establishment of state ownership of land and public primary enterprises and activities like banking, insurance etc. were strongly recommended to provide employment to unemployed workers dependent on the small umbrella of farmers. Work on industrialization to provide more opportunities.

Personal Life of Dr Bhimrao Ambedkar – B R Ambedkar Short Biography
Bhimrao Ambedkar – Known as the Messiah, BR Ambedkar was first married to Ramabai Ambedkar in 1906. After this both of them gave birth to a son named Yashwant. Ramabai died in 1935 after a long illness.

After the drafting of the Constitution of India in 1940, Bhimrao Ambedkar – B.R. Ambedkar ji also suffered from many ailments which made him unable to sleep at night, had constant pain in his feet and also developed diabetes. So he also used insulin.

For this he went to Bombay where he first met Sharda Kabir, a Brahmin doctor. After this both decided to get married and in 1948 they got married. After marriage Dr. Sharda changed her name to Savita Ambedkar – Savita Ambedkar.

Dr. Bhimrao Ambedkar converted to Buddhism
In 1950, Bhimrao Ambedkar – b. R. Ambedkar went to Sri Lanka to attend an intellectual conference. He was then so impressed with the ideas of Buddhism that he decided to embrace Buddhism and converted himself to Buddhism. After this he returned to India.

After returning to India, he also wrote several books on Buddhism. He was strongly opposed to the customs of Hinduism and strongly condemned caste division.

 

44

अस्पृश्यता और जातिगत भेदभाव को मिटाने के लिए बाबासाहेब अम्बेडकर ने चौबीसों घंटे काम किया।  हम आज भी इस महापुरुष का सम्मान करते हैं।  आइए देखते हैं बाबासाहेब अंबेडकर के बारे में जानकारी।

1 जन्म
2 बचपन
3 शिक्षा
4 जीवन
अम्बेडकर के 5 कार्य

जन्म
डॉ। बाबासाहेब अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 को मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के महू गाँव में हुआ था। उनके पिता का नाम रामजी और माता का नाम भीमाबाई था। 1891 तक रामजी और भीमाबाई के 14 बच्चे थे। उनमें से गंगा, रमा, मंजुला और तुलसा नाम की चार पुत्रियाँ जीवित रहीं और तीन पुत्र अर्थात् बलीराम, आनंदराव और भीमराव बच गए। भीमराव सबसे छोटे चौदहवें बच्चे थे। अम्बेडकर के दादाजी का नाम मालोजी सपकाल था। मालोजी को अंग्रेजी क्राउन की सेना में एक सैनिक के रूप में भर्ती किया गया था। सेना में नौकरी के कारण मालोजीराव ने एक सैनिक स्कूल में पढ़ना शुरू किया। उन्हें रामानंद संप्रदाय में दीक्षित किया गया था। इसलिए शुद्ध विचार और शुद्ध आचरण ने मालोजी के घर-गृहस्थी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

मालोजिना के चार बच्चे तीन बेटे और एक बेटी थी। दो पुत्रों के बाद एक पुत्री मीराबाई का जन्म हुआ। 1848 के आसपास जन्मे रामजी मालोजीराव की चौथी संतान थे। रामजी धार्मिक थे। उन्होंने संत कबीर के दोहे ज्ञानेश्वर, नामदेव, चोखोबा, एकनाथ, तुकाराम आदि के अभंगों का पाठ किया था। वे प्रतिदिन ज्ञानेश्वरी का पाठ किया करते थे। जब वह हेमंत सेना में स्तोत्र और भोपाल में एक सैनिक थे, तब उन्होंने अपनी अंग्रेजी शिक्षा एक सैन्य स्कूल में शुरू की और अंग्रेजी भाषा में अच्छी तरह से महारत हासिल की। इसलिए उन्होंने सामान्य स्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण की। मैट्रिक की परीक्षा पास करने के बाद सिपाही की नौकरी छूट गई। उन्हें एक सैन्य स्कूल यानी सामान्य स्कूल में शिक्षक के पद पर पदोन्नत किया गया था।

बचपन
रामजी पलटन में थे। वह पलटन 1888 में मध्य प्रदेश के मोहोल स्थित सेना के ठिकाने पर पहुंची। सूबेदार रामजी को वहां सामान्य विद्यालय के प्रधानाचार्य का पद मिला। इस दौरान डॉ. अम्बेडकर का जन्म हुआ। उनके बचपन का नाम भिवा था। उनके लोकप्रिय नाम भीम, भीम और भीमराव हैं। अम्बेडकर का परिवार तत्कालीन अछूत महार जाति से ताल्लुक रखता था और महाराष्ट्र में रत्नागिरी जिले के मंडनगढ़ तालुका के अंबडवे गाँव से ताल्लुक रखता था।

अछूत होने के कारण, वे हमेशा सामाजिक-आर्थिक भेदभाव के अधीन थे।
1894 में, सूबेदार रामजी सपकाल ब्रिटिश सेना में एक प्रधानाध्यापक के रूप में अपनी नौकरी से सेवानिवृत्त हुए और अपने परिवार के साथ महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के दापोली के अपने पैतृक गाँव के पास एक गाँव कैंप दापोली वस्ती में बस गए। भीमराव को उनकी कम उम्र के कारण स्कूल में भर्ती नहीं कराया गया था। बाद में नवंबर 1896 के महीने में, भीमराव का नाम मराठी स्कूल सतारा के कैंप स्कूल में नामांकित किया गया। इसी वर्ष उन्होंने कबीर पंथ में दीक्षा ली। कुछ दिनों बाद भीम की माता का देहांत हो गया। अम्बेडकर उस समय पाँच वर्ष के थे। उसके बाद भीम और अन्य बच्चों को उनकी मां मीराबाई ने कठिन परिस्थितियों में पाला।

शिक्षा
1904 में जब बाबासाहेब अम्बेडकर बंबई आए, तो उन्होंने एक सरकारी स्कूल एलफिन्स्टन जाना शुरू किया। वे एलफिस्टन हाई स्कूल में पढ़ने वाले पहले अछूत छात्र थे। कबीर के अनुयायी रामजी ने बच्चों को हिन्दू साहित्य से परिचित कराया। अन्य जातियों के विरोध के कारण रामजी ने अपनी सेना चौकी का उपयोग बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजने के लिए किया। 10वीं कक्षा के बाद उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में बीए की डिग्री पूरी की। रोजगार के लिए बड़ौदा संस्थान में भी शामिल हुए। अम्बेडकर विदेश से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट या पीएचडी की डिग्री प्राप्त करने वाले पहले भारतीय थे। वह दक्षिण एशिया से दो बार डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त करने वाले पहले दक्षिण एशियाई भी थे। अम्बेडकर अपने परिवार के सबसे मेधावी और उच्च शिक्षित व्यक्ति थे। उन्होंने अपनी उच्च शिक्षा नवंबर 1896 से नवंबर 1923 तक बॉम्बे विश्वविद्यालय, कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और चीन से 27 वर्षों में प्राप्त की।

ज़िंदगी
अम्बेडकर अपने शुरुआती करियर में एक अर्थशास्त्री प्रोफेसर और वकील थे जिसके बाद उन्होंने सामाजिक-राजनीतिक क्षेत्र में काम किया। भारत की स्वतंत्रता के लिए प्रचार माध्यमों और चर्चा माध्यमों से जुड़े और एक समाचार पत्र प्रकाशित किया। उन्होंने दलितों के लिए राजनीतिक अधिकारों और सामाजिक स्वतंत्रता की वकालत की और आधुनिक भारत के निर्माण में बहुमूल्य योगदान दिया। जब भीमराव 1906 में चौदह और पंद्रह साल की उम्र में स्कूल में थे, तब भीमराव की शादी दापोली के भीकू वलंगकर की 9-10 साल की बेटी रामीबाई उर्फ रमाबाई से हुई थी। एल्फिस्टन हाई स्कूल में पढ़ते समय भीमराव को कक्षा में उच्च जाति के लड़के से दूर बैठना पड़ता था। हाई स्कूल के कई शिक्षकों ने उनके साथ तिरस्कार का व्यवहार किया। अम्बेडकर अपने छात्र जीवन में प्रतिदिन अठारह घंटे अध्ययन करते थे।

अम्बेडकर का काम
उन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में बहुत योगदान दिया है। उन्होंने कृषि व्यवसाय को कृषि और किसानों के लिए सामाजिक व्यवस्था से जोड़ा। उन्होंने ग्रामीण अर्थव्यवस्था में ग्रामीण क्षेत्रों में जाति आधारित सामाजिक व्यवस्था का कारण पाया। अतः यदि हमें जाति पर आधारित सामाजिक व्यवस्था को बदलना है तो हमें कृषि को बदलना होगा। कृषि को उद्योग मानते हुए अधोसंरचना उपलब्ध कराकर किसानों का आर्थिक विकास किया जाए। उनका मानना था कि यदि किसान आर्थिक रूप से परिपक्व हो जाता है, तो कृषि श्रम और कृषि से जुड़े सभी तत्वों को आर्थिक क्षमता से लाभ होगा और आर्थिक विषमता जाति व्यवस्था का पूरक और पोषण करती है, इसलिए आर्थिक विषमता जितनी कम होगी, जातिगत भेदभाव की खाई उतनी ही कम होगी। कम हो जाएगा।

जल और भूमि कृषि के प्रमुख कारक हैं। जल के बिना कृषि का विकास असम्भव है। किसानों को साफ पानी चाहिए। पानी की उत्पादकता बढ़ाना और किसानों के आर्थिक स्तर को ऊपर उठाना संभव नहीं है। वह ब्रिटिश सरकार के निर्देश लेकर आया। उन्होंने अम्बेडकर के नेतृत्व में किसानों के लिए पहली हड़ताल का नेतृत्व किया। यह हड़ताल 1928 से 1934 के बीच जरी गांव में हुई थी। यह हड़ताल सात साल तक जारी रही। बाबासाहेब अम्बेडकर ने खोती व्यवस्था को नष्ट करने के लिए लड़ाई लड़ी।

बाबासाहेब ने राजनीतिक काम किया है। दिसंबर 1926 में बंबई के गवर्नर हेनरी स्टैवले लॉरेंस ने उन्हें बंबई विधान परिषद के सदस्य के रूप में नियुक्त किया। वहां उन्होंने अक्सर आर्थिक विषयों पर भाषण दिए। 1936 तक बंबई विधान परिषद के सदस्य। हालाँकि अछूतों के पास कोई राजनीतिक अधिकार नहीं था, फिर भी उन्हें 1930 में लंदन में आयोजित पहले गोलमेज सम्मेलन में अछूतों का प्रतिनिधित्व करने के लिए आमंत्रित किया गया था।

1940 में मुस्लिम लीग के लाहौर प्रस्ताव, जिसमें पाकिस्तान की मांग की गई थी, के बाद अम्बेडकर ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भाग लिया, अम्बेडकर ने ‘थॉट्स ऑन पाकिस्तान’ नामक 420 पृष्ठों की एक पुस्तक लिखी जिसमें उन्होंने पाकिस्तान की अवधारणा का विश्लेषण किया। उन्होंने मुस्लिम लीग की मुसलमानों के लिए अलग पाकिस्तान की मांग की भी आलोचना की और तर्क दिया कि हिंदुओं को मुस्लिम पाकिस्तान स्वीकार करना चाहिए।
बाबासाहेब अम्बेडकर एक विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री और समाज सुधारक थे। उन्होंने दलितों के अधिकारों के लिए अभियान चलाया और सामाजिक भेदभाव और मेहनती किसानों और महिलाओं के अधिकारों के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया। भारतीय संविधान के निर्माण में उनकी बड़ी हिस्सेदारी है। उन्होंने देश के पहले कानून मंत्री के रूप में कार्य किया।

भीमराव अम्बेडकर ने भारत का संविधान बनाया
डॉ भीमराव अंबेडकर का संविधान निर्माण का मुख्य उद्देश्य देश में जातिगत भेदभाव और छुआछूत को खत्म करना और अस्पृश्यता से मुक्त समाज का निर्माण करना और समाज में क्रांति लाना और सभी को समान अधिकार देना था।

भीमराव अंबेडकर को 29 अगस्त 1947 को संविधान मसौदा समिति के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। अम्बेडकर जी ने समाज के सभी वर्गों के बीच एक वास्तविक सेतु बनाने पर जोर दिया। भीमराव अंबेडकर – बीआर अंबेडकर के अनुसार यदि देश के विभिन्न वर्गों के बीच के अंतर को कम नहीं किया गया तो देश की एकता को बनाए रखना मुश्किल है, इसके अलावा उन्होंने धार्मिक, लिंग और जाति समानता पर जोर दिया।

भीमराव अंबेडकर साहब शिक्षा, सरकारी नौकरियों और सिविल सेवाओं में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के सदस्यों के लिए आरक्षण के लिए विधान सभा का समर्थन हासिल करने में सफल रहे।

भारत का संविधान भारत के सभी नागरिकों को धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार देता है।
अस्पृश्यता को जड़ से खत्म किया।
महिलाओं को सशक्त करें।
समाज के तत्वों के बीच की खाई को हटा दिया गया था।
बता दें कि भीमराव अंबेडकर – बी.आर. अम्बेडकर जी ने 26 नवंबर 1949 को लगभग 2 साल 11 महीने और 7 दिनों तक कड़ी मेहनत कर समानता, समानता, बंधुत्व और मानवता के आधार पर भारत का संविधान बनाया और तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद। देश के सभी नागरिक जिस तरह से राष्ट्रीय एकता, अखंडता और व्यक्ति की गरिमा के साथ रहते थे, उससे भारतीय संस्कृति अभिभूत थी।

संविधान के निर्माण में उनकी भूमिका के अलावा, उन्होंने भारत के वित्त आयोग की स्थापना में भी मदद की। मैं आपको बताता हूं कि उन्होंने अपनी नीतियों से देश की आर्थिक और सामाजिक स्थिति को बदलकर प्रगति की। इसके साथ ही उन्होंने स्थिर अर्थव्यवस्था के साथ-साथ मुक्त अर्थव्यवस्था पर भी जोर दिया।

महिलाओं की स्थिति में भी सुधार के लिए वे लगातार प्रयास कर रहे थे। 1951 में, भीमराव अम्बेडकर ने हिंदू महिला अधिकारिता संहिता को पारित करने की कोशिश की, और जब यह पारित करने में विफल रहा, तो उन्होंने स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री के रूप में इस्तीफा दे दिया।

इसके बाद भीमराव अंबेडकर – बीआर अंबेडकर जी ने भी लोकसभा सीट के लिए चुनाव लड़ा लेकिन इस चुनाव में वे हार गए। बाद में उन्हें राज्य सभा के लिए नियुक्त किया गया और उनकी मृत्यु तक सदस्य बने रहे।

1955 में उन्होंने भाषाई राज्यों पर अपना ग्रंथ प्रकाशित किया और आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के पुनर्गठन को छोटे और प्रशासनिक राज्यों में प्रस्तावित किया, जो 45 साल बाद कुछ राज्यों में सच हो गया।

डॉ। भीमराव अम्बेडकर – बी आर अम्बेडकर जी चुनाव आयोग, योजना आयोग, वित्त आयोग, समान नागरिक हिंदू संहिता महिला, राज्य पुनर्गठन, छोटे राज्यों में बड़े राज्यों का एकीकरण, राज्य नीति के मार्गदर्शक सिद्धांत, मौलिक अधिकार, मानवाधिकार, नियंत्रक और महालेखा परीक्षक, चुनाव आयुक्त और मजबूत सामाजिक, आर्थिक, शैक्षिक और विदेशी नीतियों को तैयार किया जिसने राजनीतिक संरचना को मजबूत किया।

इतना ही नहीं डॉ भीमराव अम्बेडकर – बी आर अम्बेडकर ने अपने जीवन में लगातार प्रयास किए और अपने कठिन संघर्ष और प्रयासों से उन्होंने लोकतंत्र को मजबूत किया और राज्य के तीन अंगों, न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका के साथ-साथ समान नागरिक अधिकारों को अलग कर दिया। . एक व्यक्ति, एक राय और एक मूल्य के तत्व के अनुरूप।

इसके अलावा भीमराव अंबेडकर जी, एक प्रतिभाशाली प्रतिभा, ने संविधान के माध्यम से अनुसूचित जाति और जनजाति की विधानमंडल, कार्यपालिका और न्यायपालिका में भागीदारी के साथ-साथ भविष्य में ग्राम पंचायत, जिला पंचायत, पंचायत जैसी किसी भी तरह की विधानसभाओं में भागीदारी सुनिश्चित की। राज आदि का मार्ग प्रशस्त किया।

सहकारी और सामूहिक खेती के साथ-साथ उपलब्ध भूमि का राष्ट्रीयकरण, भूमि के राज्य के स्वामित्व की स्थापना और सार्वजनिक प्राथमिक उद्यमों और बैंकिंग, बीमा आदि गतिविधियों जैसे किसानों की छोटी छतरी पर निर्भर बेरोजगार श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने की जोरदार सिफारिश की गई। अधिक अवसर प्रदान करने के लिए औद्योगीकरण पर काम करें।

डॉ भीमराव अम्बेडकर का व्यक्तिगत जीवन – बी आर अम्बेडकर लघु जीवनी
भीमराव अम्बेडकर – मसीहा के रूप में जाने जाने वाले, बीआर अम्बेडकर की पहली शादी 1906 में रमाबाई अम्बेडकर से हुई थी। इसके बाद दोनों ने यशवंत नाम के एक बेटे को जन्म दिया। रमाबाई का लंबी बीमारी के बाद 1935 में निधन हो गया।

1940 में भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने के बाद, भीमराव अम्बेडकर – बी.आर. अम्बेडकर जी भी कई बीमारियों से पीड़ित थे जिससे उन्हें रात को नींद नहीं आती थी, उनके पैरों में लगातार दर्द रहता था और उन्हें मधुमेह भी हो गया था इसलिए उन्होंने इंसुलिन का भी इस्तेमाल किया।

इसके लिए वे बंबई गए जहां उनकी पहली मुलाकात एक ब्राह्मण डॉक्टर शारदा कबीर से हुई। इसके बाद दोनों ने शादी करने का फैसला किया और 1948 में उन्होंने शादी कर ली। शादी के बाद डॉ. शारदा ने अपना नाम बदलकर सविता अम्बेडकर – सविता अम्बेडकर रख लिया।

डॉ। भीमराव अम्बेडकर बौद्ध धर्म में परिवर्तित हो गए
1950 में, भीमराव अम्बेडकर – बी। आर। अम्बेडकर एक बौद्धिक सम्मेलन में भाग लेने के लिए श्रीलंका गए थे। तब वे बौद्ध धर्म के विचारों से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने बौद्ध धर्म अपनाने का फैसला किया और खुद को बौद्ध धर्म में परिवर्तित कर लिया। इसके बाद वे भारत लौट आए।

भारत लौटने के बाद उन्होंने बौद्ध धर्म पर कई पुस्तकें भी लिखीं। वे हिंदू धर्म के रीति-रिवाजों के घोर विरोधी थे और जाति विभाजन की कड़ी निंदा करते थे।

 

To fill NEET UG 2023 application form

Click the following button

https://arsodenglishclasses.com/neet-application-form-2023/

Arsod Sir (2)
Arsod English Classes, Yavatmal
My Marquee Subtext
For 12th English
My Marquee Subtext
Arsod English Classes, Yavatmal
My Marquee Subtext
For 12th English
My Marquee Subtext
  • Online & Offline Classes

    Students can attend online or offline classes according to their convenience. Limited strength in each batch. Modern, innovative concepts based but simple teaching method. Disciplined and highly feasible learning environment.

  • Excellent Previous Result

    Every year 100% result. In the exam of 2022, our two students are highest in Maharashtra. Completion of syllabus within stipulated time period..

  • Quality Study Material

    Notes of all chapters, poems, and novels are provided in pdf and printed form. From the content rich notes learn tips, tricks and strategies.

  • Regular Weekly Revision Tests

    We conduct regular offline test on each and every topic, daily online test. Regular doubt clearing sessions. Every Sunday special classes for weak students.

  • Long Teaching Experience

    More than 35 years' teaching experience. Student centered and Exam oriented teaching as well as individual attention.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *